रिश्तों को जीना सीखें – अनु महेश्वरी

निभाते निभाते रिश्ते भी,
बोझ से लगने लगते है|
आसान अगर बनाना है,
रिश्तों को जीना सीखें|

आप जुड़े हो, किसी भी पेशे से,
एक बार उसे अपना, मान कर देखें|
उसे काम समझ, न निभाए,
उसे अपना समझ, अपनाए|
फिर पहले जो लगता था, बोझ सा,
वहीं सब कुछ लगेगा, अब हल्का सा|

यहीं बात विद्यार्थी भी समझे,
बस पास होने के लिए न पड़े|
वह नाता जोड़े, किताबों से,
फिर होगा प्यार किताबों से|
बोझ तब न लगेंगी, पढ़ाई भी
तनाव मुक्त रहेगा, जीवन भी|

अपने निजी रिश्तो में भी,
हमें है, यही बातें समझनी|
बस न रह जाए हम, रिश्तों को निभाते,
बल्कि उन रिश्तो को, हम जीना सीखें,
सिख गए अगर जीना, रिश्तों को हम भी,
फिर ज़िन्दगी, बोझिल न लगेगी हमें भी|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

24 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/04/2017
  2. angel yadav anjali yadav 20/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/04/2017
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/04/2017
  4. vijaykr811 vijaykr811 20/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/04/2017
  5. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 21/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/04/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/04/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/04/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/04/2017
  9. babucm babucm 22/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/04/2017
  10. Kajalsoni 22/04/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/04/2017
  11. mani mani 23/04/2017
  12. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/04/2017

Leave a Reply