आलम इश्क का

नैना मेरे ढूंढें तुझे हर पल
क्यूँ न तू समझे ओ जानम
दिल ये तेरा हो चुका साजन
क्यूँ न समझे इसकी धड़कन

मै हु तेरा इतना समझ ले
मेरे इश्क की परवाह तू कर ले
छोडूंगा न तुझे प्यार मै करना
अब जितने भी कर ले सितम

इश्क किया है करता रहूँगा
तेरे बिन अब जी न सकूँगा
प्यार की बारिश अब तो तू कर दे
दिल में लगी है ऐसी अगन

जिन्दगी मेरी अब हाँ में है तेरी
या तो मौत या हो जा तू मेरी
पीछे करूँ न अपने मै कदम
खाई है मैंने अब ये कसम

11 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/04/2017
    • vijaykr811 vijaykr811 20/04/2017
    • vijaykr811 vijaykr811 20/04/2017
    • vijaykr811 vijaykr811 20/04/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/04/2017
    • vijaykr811 vijaykr811 20/04/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/04/2017
    • vijaykr811 vijaykr811 21/04/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/04/2017
  5. Kajalsoni 22/04/2017

Leave a Reply