ग़ज़ल- बहे अश्क यूँ दर्द के आज आँखों से मेरी…मनिंदर सिंह “मनी”

बहे अश्क यूँ दर्द के आज आँखों से मेरी |
लिया कर किनारा हो तुमने अदाओ से मेरी ||

सजी मेरी महफ़िल सनम सिर्फ तेरे लिये ही |
लगे बेखबर तुम मुझे आज बातों से मेरी ||

बताओ बदल से गये हमसफ़र कैसे तुम यूँ |
नज़र को मिलाते नहीं तुम निग़ाहों से मेरी ||

कहो कुछ लबो से मेरे हर ख़ुशी क्यों चुरा ली |
कमा ली दगा क्यों सनम तुम ने साँसो से मेरी ||

भुला जग के दस्तूर तुझ को ही चाहा हमने |
न खेलो “मनी” और तुम यूँ वफाओ से मेरी ||

मनिंदर सिंह “मनी”

20 Comments

  1. babucm babucm 20/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  4. Bhawana Kumari Bhawana kumari 20/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  5. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  6. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 21/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/04/2017
    • mani mani 23/04/2017
  9. Kajalsoni 22/04/2017
    • mani mani 23/04/2017

Leave a Reply