मौज

सब अपनी-अपनी कहते हैं!

कोई न किसी की सुनता है,
नाहक कोई सिर धुनता है,
दिल बहलाने को चल फिर कर,

फिर सब अपने में रहते हैं!

सबके सिर पर है भार प्रचुर
सब का हारा बेचारा उर,
सब ऊपर ही ऊपर हँसते,

भीतर दुर्भर दुख सहते हैं!

ध्रुव लक्ष्य किसी को है न मिला,
सबके पथ में है शिला, शिला,
ले जाती जिधर बहा धारा,

सब उसी ओर चुप बहते हैं।

Leave a Reply