माझी उसको मझधार न कह

रुक गयी नाव जिस ठौर स्वयं, माझी, उसको मझधार न कह !

कायर जो बैठे आह भरे
तूफानों की परवाह करे
हाँ, तट तक जो पहुँचा न सका, चाहे तू उसको ज्वार न कह !

कोई तम को कह भ्रम, सपना
ढूँढे, आलोक-लोक अपना,
तव सिन्धु पार जाने वाले को, निष्ठुर, तू बेकार न कह !

One Response

  1. kaushlendra 11/01/2013

Leave a Reply