ज़िन्दगी… एक आस – अर्चना गंगवार

बस एक जीत और एक हार नहीं है जिंदगी, जिंदगी दुनिया है और हम वो मुसाफिर जो इसमें अपनी मंजिल खोज निकालेंगे| आखिर कौन हैं हम? क्या है हमारा अस्तित्व ? क्या है हमारा बजूद ?

जिंदगी  हमारा संसार है जिसे सुन्दर और सदाचारी बनाना है |यह अच्छे कर्म करते हुए साथ छोड़ दे तो गर्व करेंगे हम इस पर||

जिंदगी मोड़ है लकिन बेजोड़ है, गिरने और उठने का नाम है जिंदगी|  उमंग – तरंग है , नई राह है जिंदगी ||

जिंदगी तमन्ना है सिर्फ धन दौलत से अमीर, अमीर नहीं उसकी जिंदगी | मन तन और गुण है जिंदगी, विश्वास और सम्मान है जिंदगी ||

जिंदगी हँसी- खुशी, क्षमा और गलती है रिश्तो और शर्तो को निभाने का काम है जिंदगी | भाग्य, भगवती, भगवान, भविष्य, और प्यार का नाम है जिंदगी||

जिंदगी कहीं कर्तव्य है तो कहीं कर्म | कहीं आत्मविश्वास और साहस,  कहीं धैर्य तो कहीं हौसला है जिंदगी | |

काम का छोटा सा दिन है जिंदगी, रुकने का काम नहीं चलने का नाम है जिंदगी | समय का सदउपयोग है क्योंकि कर्म है जिंदगी ||

जिंदगी चिंता और शोक नहीं, आशा है जिंदगी| मजबूत हौसलों की शान और अरमान है जिंदगी ||

जिंदगी को जीना न सीखा जब तक इतनी ही लम्बी लगेगी जिंदगी, क्योंकि दोस्ती और दुश्मनी की शान है जिंदगी |

धैर्य, ध्यान और इन्सान  की पहचान है जिंदगी ||

7 Comments

  1. Archana Gangwar Archana Gangwar 17/04/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/04/2017
  3. mani mani 17/04/2017
  4. C.M. Sharma babucm 17/04/2017
  5. Kajalsoni 17/04/2017
  6. shivdutt 18/04/2017

Leave a Reply