ज़रूरी है – अजय कुमार मल्लाह

मानना हो तो मानो मै तो सच कहता हूँ,
कि बोलने से पहले तोलना ज़रूरी है।

जिस देश में रहते हो उसकी बुराई सुनके,
तुम्हारा भी तो ख़ून खौलना ज़रूरी है।

चुप्पी अक्सर इंसान को कमज़ोर बनाती है,
गलत के जवाब मेंं सही बोलना ज़रूरी है।

नेताओं की शक्ल मेंं देश के लुटेरे बैठे हैं,
इन सब चोरों की जेबें टटोलना ज़रूरी है।

12 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 15/04/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/04/2017
  3. chandramohan kisku chandramohan kisku 15/04/2017
  4. Kajalsoni 16/04/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 16/04/2017
  6. babucm babucm 17/04/2017

Leave a Reply