हिम्मत न हार बन्दे

हिम्मत न हार बन्दे सब कुछ तेरे हाथ हैं

मेहनत के नीव पर ही होते सब काज हैं

दर्द के तुफान में भी हौसला बनाए रख

उम्मीद की ज्योती के लौ को तू जलाए रख

तप कर ही सोने पर आता नीखार हैं

हिम्मत न हार……………

 

किश्मत निगोरी भी कब तक भरमायेगी

कोशिसो की गर्मि से ये भी पिघल जाएगी

अर्जुन सा मन्जिल पे नजरे टिकाए रख

विश्वास के साथ अपनी चाल को बनाए रख

मुहाम्मद गौरी का अ भी जिन्दा इतिहास हैं

हिम्मत न.……………

मानता हूं उसके मर्जी बिन पत्ता भी नही हिलता हैं

पर भूलता हैं क्यो तू वो पिता हम बच्चा हैं

लायक हो बच्चे तो मां बाप भी झुक जाते हैं

बच्चे की खाहिस के लिए हद से गुजर जाते हैं

वो भी गुजरेगा जो तु लगन से करे काज हैं

हीम्मत न…………..

बहुत कुछ पाने के लिए बहुत कुछ खोना पड़ता हैं

चैन और शकून का बलिदान देना पड़ता हैं

सफलता एक बार छूटी इसमे एक बात हैं

कमी हैं कुछ मेहनत मे तेरी इतनी बस राज हैं

रस्से की कोशिसो से पड़े सिल पर निशान है

हिम्मत न .……….

7 Comments

  1. babucm babucm 14/04/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/04/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/04/2017
  4. mani mani 14/04/2017
  5. Kajalsoni 14/04/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 15/04/2017

Leave a Reply