आज इस मोड़ पे …

आज इस मोड़ पे आके
हम ये सोचे अपनी तन्हाई में अक्सर ।
क्यों हर मोड़ पे आके भीड़ में भी
खुद को तन्हा पाया हमने ।

कितने अपनो से मुँह मोड़
कितने परायो को मनाया हमने ।

कितने अपनो का दिल तोड़
कितने परायो को अपनाया हमने ।

कितने अपनो को बेसहारा छोड़
कितने परायो को सम्भाला हमने ।

कितने अपनो को रूला कर
कितने परायो को हँसाया हमने ।

कितने अपनो को लूट कर
कितने परायो को बसाया हमने ।

ऐसा कौन है जिसे नहीं सताया हमने,
सबका दिल कभी न कभी तो जलाया हमने ।

इसलिए हर मोड़ पे आके भीड़ में भी
खुद को तन्हा पाया हमने ।

#ashwin1827

14 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/04/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/04/2017
  3. raquimali raquimali 11/04/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/04/2017
  5. Kajalsoni 11/04/2017
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/04/2017

Leave a Reply