दिल की बातो को …

लब से मत कहो,
आँखो से मत कहो,
दिल की बातो को,
दिल से कहो ।

लबो का क्या भरोसा,
ये खामोश ही रहे,
आँखो का क्या भरोसा,
ये मदहोश ही रहे ।

वक्त यूँहि ना बीत जाए,
इस खामोश मदहोशी में,
जो भी कहना है मेरे दिल से,
अपने दिल से कहो ।

आदमी का सफर जुड़ जाए,
जब औरत के सफर से,
अधुरी किताबे फिर वो पूरी करे,
जीवन के सफर में ।

अलग अलग कहानीयों में,
ना बट जाए,
जो भी कहना है मेरे दिल से,
अपने दिल से कहो ।

लब से मत कहो,
आँखो से मत कहो,
दिल की बातो को दिल से कहो ।

#ashwin1827

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 10/04/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/04/2017
  3. C.M. Sharma babucm 11/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 11/04/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/04/2017
  5. Kajalsoni 11/04/2017
  6. mani mani 12/04/2017

Leave a Reply