तेरे बिना …

आँखो के मदहोश प्यालो से पिला दे मुझको,
तेरे बिना होश में रहके रखा क्या है ।

जुल्फों की रेशमी जन्जीर से बाँध दे मुझको,
तेरे बिना आवारगी में रहके रखा क्या है ।

अपने लबो से सिल दे मेरे लबो को,
मेरी हर साँस तेरी साँसो से जुड़ जाए,
अकेलेपन की इस तन्हाई में रहके रखा क्या है ।

आ समा जाए हम दो जिस्म एक जान होके,
हमसफर तूम्ही को पाए हर जनम के लिए,
जीते जी अब यही दूआ करे,
तेरे बिना जिन्दा रहके रखा क्या है ।

#ashwin1827

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 10/04/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 10/04/2017
  3. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 10/04/2017
  4. babucm babucm 10/04/2017
  5. Kajalsoni 10/04/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 10/04/2017
  7. mani mani 12/04/2017

Leave a Reply