हम तुमसे मोहब्बत कर बैठे

ये सपने है,
इन सपनो में
हम तुमसे मोहब्बत कर बैठे ।

इल्जाम ये देना है,तो मुझको दो ,
उन सपनो को तुम गुमनाम ना करो,
हम तुमसे मोहब्बत जो कर बैठे ।

कुछ लम्हे है,
उन लम्हो में
हम प्यार तुम्ही से कर बैठे ।

खता जो ये की मैने,उसका खामोशी से,
इन लम्हो को तुम ये इनाम ना दो,
हम तुमसे मोहब्बत जो कर बैठे ।

कुछ बाते है,
उन बातो में,
हम दिल ये तुम्ही को दे बैठे ।

बाते ही तो है,जो यादे है,
इनको अब ना बदनाम करो ।
हम तुमसे मोहब्बत जो कर बैठे ।

इकरार जन्मो का कर बैठे,
जो सच है तुम वो देखो,
झूठे वादो मे पड़ कर,
हमको अब ना अन्जान करो ।
हम तुमसे मोहब्बत जो कर बैठे ।

#ashwin1827

8 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 07/04/2017
  2. babucm babucm 07/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 07/04/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 07/04/2017
  4. Kajalsoni 08/04/2017

Leave a Reply