बोल जिन्दगी …

बोल जिन्दगी … आज तू हमसे क्या नया कहती है।

कौन सी खुशी के पंख लगा आसमान में उड़ती है,
कौन से गम के आँसू लेकर समंदर में तैरती है।

कौन सी नई पहेली आज हमें देती है,
हर रोज़ जीने का मतलब उसी से समझाती है।

कौन है अपना,कौन है पराया तू तो सब जानती है,
हर पल टूटते जुड़ते रिश्तो के बाग सजाती है।

रह ना जाए दिल की बाते दिल के अन्दर,
जिन्दगी बीत जाएगी सबकी एक दिन,
रह जाएगी र्सिफ यादें महकती हुई।

बोल जिन्दगी आज तू हमसे क्या नया कहती है।

#ashwin1827

9 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 07/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 07/04/2017
  2. C.M. Sharma babucm 07/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 07/04/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 07/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 07/04/2017
  4. Kajalsoni 08/04/2017
    • ashwin1827 ashwin1827 10/04/2017

Leave a Reply