सोशल साईट हुई मेहरबान — डी. के. निवातिया

नवयुग में लोगो पर सोशल साईट हुई मेहरबान है
व्हाट्सएप, फेसबुक पर हर कोई बाँट रहा ज्ञान है
सीखने वाले भी वही यंहा, सिखाने वाले भी वो ही
फिर भी हर इंसान दिखता यंहा बड़ा ही परेशान है !!
!
सभी डॉक्टर, वैध यंहा, सभी क़ानूनी सलाहकार
फिर भी नजर आता है हर कोई दुखी और बीमार
उलझा है जग आज आदान प्रदान के इस फेर में
संस्कृति,सभ्यता, प्रेम का भी खूब चले कारोबार
!
सन्देश भेजने का वक़्त है पर पढ़ने का नहीं किसी के पास
सुप्रभात हो या शुभरात्रि एक सन्देश घूम जाता सबके पास
किसी की किसी की खबर नहीं आज कौन है किस हाल में
घर में बैठे अपनों से दूरिया बढ़ी, फिर भी बताये उन्हें ख़ास !!
!
!
!
डी. के. निवातिया

18 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  2. C.M. Sharma babucm 17/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 17/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  4. RaviBhattacharya RaviBhattacharya 17/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  6. Kajalsoni 17/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  7. mani mani 18/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  8. shivdutt 18/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  9. Shyam Shyam tiwari 21/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017

Leave a Reply