इक आदत सी हो गई है – सर्वजीत सिंह

इक आदत सी हो गई है

मेरी बीवी का हर बात पर मुझे टोकना
जो बात पसंद ना हो उस काम को रोकना
इक आदत सी हो गई है ————–

कभी गीले टॉवल को धूप में सुखवाना
कभी जूतों को सही जगह पर रखवाना
कभी बिखरे हुए कपड़ों को उठवाना
कभी घर की साफ़ सफाई करवाना
इक आदत सी हो गई है ————–

किसी से बात करने से पहले समझाना
कभी टीचर की तरह लेसन पढ़ाना
कभी कोई बात ना मानो तो रूठ जाना
रूठ के गुस्से में मेरी दस बुराई बताना
इक आदत सी हो गई है ————–

वो चुप रहती है तो लगता उसकी तबियत ख़राब है
कभी लगता है के खतरनाक भूचाल का आगाज़ है
उसकी चहचहाने की आवाज़ बहुत अच्छी लगती है
कभी वो मेरी अम्मा तो कभी छोटी सी बच्ची लगती है
अब तो उसकी हर बात तसल्ली और प्यार से सुनने की
मेरी भी इक आदत सी हो गई है ————–

सर्वजीत सिंह
sarvajitg@gmail.com

12 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/04/2017
    • sarvajit singh sarvajit singh 02/04/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 02/04/2017
  3. sarvajit singh sarvajit singh 02/04/2017
  4. C.M. Sharma babucm 03/04/2017
    • sarvajit singh sarvajit singh 03/04/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 03/04/2017
  6. sarvajit singh sarvajit singh 03/04/2017
  7. Kajalsoni 03/04/2017
  8. sarvajit singh sarvajit singh 03/04/2017
  9. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/04/2017
  10. mani mani 04/04/2017

Leave a Reply