माँ …..भूपेन्द्र कुमार दवे

माँ

 

माँ ! तुम क्यों मेरी कविता में रह रहकर आती हो।

क्यूँ अपने आँसू की गंगा इसमें भर जाती हो।

 

मैं तो अपनी कलम लिये यूँ ही सोचा करता हूँ

पर कागज पर तुम क्यूँकर माँ अच्छा लिख जाती हो।

 

मैं तो जगता रहा हूँ रातभर सो भी न सका हूँ

पर जाने कब तुम भावों में रस कण भर जाती हो।

 

माँ ! तुम क्यों मेरी कविता में रह रहकर आती हो।

 

सुबह कुनमुनाती किरणें अपनी झोली में ले, माँ

तुम ही आकर थपकियाँ दे मुझको सजग बनाती हो।

 

माँ,  मेरी कविता तो तेरे आँगन की तुलसी ही है

फिर क्यूँ इसको सिंचित करने आँखें भर लाती हो।

 

माँ ! तुम क्यों मेरी कविता में रह रहकर आती हो।

 

मैं खो जाऊँ अपने सपनों या तेरी यादों में

पर तुम कविता आँचल में ला सब सुध भर जाती हो।

 

माँ, तुम ही छूकर पढ़ लो कविता की पंखुड़ियों को

जो खुश्बू है इसमें वह तुम ही तो भर जाती हो।

 

माँ ! तुम क्यों मेरी कविता में रह रहकर आती हो।

 

मैं हूँ बस कोरा कागज कविता करना क्या जानूँ

इस कागज पर तो तुम ही माँ, कुछ कुछ लिख जाती हो।

 

मैं शब्द चुनूँ या फिर शब्द-चयन में कँप कँप जाऊँ

पर तुम स्नेहिल अर्थ सभी में आकर भर जाती हो।

 

माँ ! तुम क्यों मेरी कविता में रह रहकर आती हो।

 

देने अतुल आशीष तुम ही कविता बन आती हो

मेरे हृदय पटल पर फिर तुम कुछ कुछ लिख जाती हो।

 

हर शब्द-परत में तुम ही स्नेह प्यार भर जाती हो

अंकित कर चुम्बन प्यारा-सा कविता रच जाती हो।

 

माँ ! तुम क्यों मेरी कविता में रह रहकर आती हो।

 

अब समझा माँ, तुम क्यों मेरी कविता में आती हो

क्यूँ ममता का पराग इसमें भरने तुम आती हो।

 

माँ, तुम आती हो तो मेरी कविता रच जाती है

मेरे आँसू कण में तुम गंगा जल भर जाती हो।

 

अब समझा माँ, तुम क्यों मेरी कविता में आती हो।

 

                     …..भूपेन्द्र कुमार दवे

              00000

6 Comments

  1. babucm babucm 30/03/2017
    • bhupendradave 30/03/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/03/2017
    • bhupendradave 30/03/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/03/2017
  4. Kajalsoni 30/03/2017

Leave a Reply