मंजिल कुछ और है मेरी, अभी पहचान बाकी है…

मंजिल कुछ और है मेरी, अभी पहचान बाकी है
जो कुछ ठान रख्खा है, ओ हर एक काम बाकी है
कोशिश बहुत दूर जाने की है, अभी उड़ान बाकी है
पैर ज़मीन पर ही है मेरे, अभी तो आसमान बाकी है !!

Just wanna fly like a bird in the sky…

10 Comments

  1. Kajalsoni 29/03/2017
  2. babucm babucm 29/03/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 29/03/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/03/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/03/2017

Leave a Reply