ICU की वह दिन और रात – अनु महेश्वरी

सुबह सुबह सीने के तीब्र दर्द ने
मुझे ICU में पहुँचा दिया था
न ही पास में मोबाइल था
न ही अपना कोई साथ था
न ही कुछ समझ आरहा था
बस अच्छा नहीं लग रहा था
अंदर एक बोर्ड पे लिखा था
“please keep silence’
चुप चाप ही थे मरीज तो सभी
हल्ला उस बोर्ड के निचे बैठी
सिस्टर्स ज़्यादा मचा रही थी
शोर के बिच भी अजीब सा
सन्नाटा वहाँ पसरा हुआ था
पास वाली मरीज बीच बीच में
दर्द से कराह रही थी जोर जोर से
मैं आँखों को बंद कर
सोने की कोशिश कर रही थी
बीच बीच में सिस्टर्स दवा
या फिर कभी इंजेक्शन
या कभी रक्तचाप नापने
के लिए मुझे जगा रही थी
आँखें अब भारी होने लगी थी
पर नींद आँखों से गायब थी
समय मानो थम सा गया था
रुक गयी घड़ी की सुईया थी
दिन है अभी भी
या रात हो चुकी
पता ही नहीं चल रहा था
बिटीया की याद आने लगी थी
ठीक से बात भी नहीं हो पायी थी
कुछ समझ नहीं आरहा था
पर मैंने हौसला नहीं खोया था
धीरे धीरे समय निकल रहा था
दिन की तरह रात भी लम्बी थी
पर जैसे तैसे समय बीत ही गया था
सुबह वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया था
अब मैं अपनों के बिच आचुकी थी
पता चला पतिदेव ने भी रात सारी
ICU के बाहर सीढ़ियों पे बैठ काटी थी
पर अब सब कुछ ठीक था
मोबाइल की घंटिया
लगातार बज रही थी
अपने जो दूर थे
उनके पास होने का
एहसास करा रही थी
हम दोनों के चेहरे पे हल्की सी
मुस्कराहट अब लौट आयी थी।

**(पिछले दिनों मेरे साथ कुछ ऐसा हुआ की २४ घंटे मुझे ICU में बिताना पड़ा। अपने उसी अनुभब को चित्रित करने की कोशिश की है। )

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

14 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 27/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 27/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/03/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/03/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 27/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/03/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/03/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 27/03/2017
  6. Kajalsoni 28/03/2017
  7. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/03/2017

Leave a Reply