कोयल (हाइकु)….. काजल सोनी

राग सुरीली
कुहुक कुहुक के
रटे वन में |

रुप हैं काला
मनमोहिनी अदा
तेरे तन में |

छलके प्रेम
संगीत मधुशाला
मेरे मन में |

व्याकुल मन
विचलित व्यथा हैं
आज जन में |

दे रही हमे
मानो प्रेम संदेशा
ये जीवन में |

लगी अगन
पिया मिलन जागी
अंतर्मन में |

” काजल सोनी “

13 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/03/2017
  2. Kajalsoni 28/03/2017
  3. Kajalsoni 28/03/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/03/2017
    • Kajalsoni 29/03/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 28/03/2017
    • Kajalsoni 29/03/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 28/03/2017
    • Kajalsoni 29/03/2017
  7. C.M. Sharma babucm 29/03/2017
    • Kajalsoni 29/03/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/03/2017
    • Kajalsoni 29/03/2017

Leave a Reply to Shishir "Madhukar" Cancel reply