आक्रोश – अनु महेश्वरी

जिसे देखो आक्रोश में है।
कोई अपनी हताशा दूसरे पे,
निकालने में लगा है,
या कोई अपनी धौंस दिखाने में।
कोई अपने घरवालों पे,
कोई दफ्तर के कर्मचारी पे,
कोई दोस्तों या सहकर्मी पे,
कोई हॉस्पिटल के डॉक्टर्स पे,
कोई घर पे रह रहे सहायक पे,
कोई सड़क के लोगो पे।
घर हो या दप्तर हो या हो सड़क,
या फिर हो हॉस्पिटल,
इन घटनाओं में; बस,
एक ही बात समान है,
निराशा या धौंस का शिकार,
अधिकतर अपने से कमज़ोर ही होता है।
किसका दोष है? क्या गलती है ?
अभी खोजने का वक़्त नहीं है।
अब दोषारोपण करना छोड़े हम।
पहले तो हो रहे इस शोर को,
शांत करना ज़रूरी है।
इसमें तो अपनी आवाज़ भी,
ठीक से सुन नहीं पा रहे हम,
औरो की आवाज़ कहा सुन पाएंगे?
देश को अगर उत्तम बनाना है,
तब सबकों मिलकर साथ आना है,
थोड़ी मानसिकता बदलनी है,
अपने पहले सामने वाले के,
बारे में सोचना है।
अपने अधिकारों के पहले,
सामनेवाले के हक़ का,
ख्याल भी रखना है।
किसीको हक़ नहीं कानून,
अपने हाथ में लेनेका,
यह हमे अब मानना है,
और लोगो को भी समझाना है।
अपने सामने होती किसी भी,
घटना से आँखें फेर लेना,
आदत सी जो बन गयी थी,
अब उस आदत को ही,
हमें बदलना है।
मूक दर्शक बन सामने होते,
अन्याय से कब तक नज़रे चुराएँगे,
अब हमे औरो के लिए भी,
आवाज़ उठानी सीखनी है।
और मदद के लिए,
आगे बढ़ साथ देना है।
आज किसी और के साथ,
अगर कुछ गलत हो रहा है,
वह कल हमारे साथ भी,
हो सकता है, यह सोच,
अब सब में जगानी है।
आए सब मिल कर,
कोशिश करे हम,
“मैं” से पहले,
“हम” बन देखे हम,
कुछ तो निकले,
हल इस समस्या का,
सबकी हो भागीदारी,
क्योकि,
सबकी है यह ज़िम्मेदारी।

 

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
  5. C.M. Sharma babucm 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
  6. Kajalsoni 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
  7. KaviKrishiv KaviKrishiv 25/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/03/2017

Leave a Reply