फिर आना कन्हैया — मधु तिवारी

फिर आना कन्हैया गोकुल नगरी
फोड़ देना सांवरिया मेरी गगरी

जमुना तट जल भरने जाऊँ
जाके वहाँ तेरा दर्शन पाऊँ
छवि तेरी भर लूं मैं मन गगरी
फिर आना कन्हैया गोकुल नगरी

गोपीयन संग मुझको भी नचा दे
पल भर को मोहे राधा बना दे
चली अब तो मैं तेरे ही डग री
फिर आना कन्हैया गोकुल नगरी

दुनिया मे मेरा मन नहीं लागे
जाऊँ कन्हैया तेरे पीछे भागे
न छोड़ू मोहन मैं प्रेम पग री
फिर आना कन्हैया गोकुल नगरी

तेरे दरस की भूख जबर है
घर बाहर की न कोई खबर है
लागे ये दुनिया गजब ठग री
फिर आना कन्हैया गोकुल नगरी

मधु तिवारी

17 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 25/03/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 25/03/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 25/03/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 25/03/2017
  5. babucm babucm 25/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 25/03/2017
  6. Kajalsoni 25/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 25/03/2017
  7. आलोक पान्डेय आलोक पान्डेय 25/03/2017
  8. KaviKrishiv KaviKrishiv 29/03/2017

Leave a Reply