दुनिया में आने तो दो

(ये कविता उन बेटियो के दर्द को प्रदर्शित करती है जिन्हें इस दुनिया में आने से पहले ही मार दिया जाता है। उस वक़्त एक बेटी अपने माता पिता से कुछ इस तरह से दुनिया में आने की गुजारिश करती है)-

पापा मुझे यु ना मारो
में तो आपके भाग्य से आई हु,
पापा मुझे घर से ना निकालो
में तो साथ अपने खुशिया लाई हु,

माँ में आपके काम में आपका हाथ बटाऊँगी
आप जब थक जाओगे, हाथो से खाना आपको खिलाऊँगी ,
आपका मान में खूब बढ़ाऊँगी
गर्व से आपका नाम रोशन कर जाऊँगी,

पापा आपको कभी दुःख ना पोहोचाऊंगी
आपके हर दर्द को चुटकियो में दूर भगाउँगी
पापा मुझे इस दुनिया में आने तो दो
आखिर मुझे जीने तो दो

पापा में बोझ नही हु
में तो आपकी किस्मत बदल जाऊँगी
बस मुझे इस दुनिया में आने तो दो
आखिर मुझे जीने तो दो

माँ मुझे मारके पाप के भागीदार आप मत बनो
मुझसे मेरी ये साँसे तो मत छीनो
आपकी उदासी में दूर कर जाऊँगी
आपको खुशिया में दे जाऊँगी
बस मुझे इस दुनिया में आने तो दो
आखिर मुझे जीने तो दो

मेरा कुसूर आखिर क्या है
ये मुझे बतला तो दो
क्या बेटी होना गुनाह है माँ?
आप भी तो एक बेटी है
मेरे इस दर्द को आखिर आप तो समझो
प्लीज मुझे जीने तो दो
मुझे इस दुनिया में आने तो दो…!

!

!

!

चंचल सोनी

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/03/2017
    • chanchal soni 26/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 26/03/2017
    • chanchal soni 27/03/2017
  3. C.M. Sharma babucm 26/03/2017
    • chanchal soni 27/03/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/03/2017
    • chanchal soni 27/03/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/03/2017
    • chanchal soni 03/04/2017

Leave a Reply