“गुरुदक्षिणा”

उदास शब्दों के जादूगर !
तुम से मैंने बहुत कुछ सीखा है ।
ख्यालों की खूबसूरती​ और
जमीन की हकीकत ।

जीवन की हकीकत , किताबों में नही ,
दुनियां की रवायतों में होती है ।
मैंने जाना तुम से यह शब्दों की सुघड़ता में
चैन की नींद सोती है ।

तिनका-तिनका गूंथ कर ,
बैया के घोंसले की मानिंद तुम ।
अपने दर्द को शब्दरुपी रंगों में ढाल
जिन्दगी का खाली कैनवास भरते हो ।

उदास शब्दों के जादूगर !
तुम से मैंने बहुत कुछ सीखा है ।
ख्यालों की खूबसूरती​ और
जमीन की हकीकत ।

XXXXX

“मीना भारद्वाज”

16 Comments

    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/03/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  2. ALKA ALKA 24/03/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/03/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  4. Kajalsoni 24/03/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/03/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 24/03/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017
  7. babucm babucm 25/03/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 25/03/2017

Leave a Reply