बड़ा अच्छा लगता है — डी. के. निवातिया

बड़ा अच्छा लगता है

उगते सूरज की लालिमा को तकना
बैलो के गले में घंटी का बजना
डाल डाल चिड़ियों का फुदकना
कोमल लताओं पर पुष्पों का खिलना
झूमती शाखाओं पर पत्तियों का हिलना
झरने से बहती जलधारा का झरना
अमवा की डारी पे कोयल का कूकना
अरण्य में हिरणो का इधर से उधर विचरणा
टक-टकी लगाये ये मनोहारी दृश्य देखना
सचमुच ह्रदय को बड़ा अच्छा लगता है  !!

!
!
!

डी. के. निवातिया

26 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  4. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 24/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  5. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  7. babucm babucm 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  8. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  9. angel yadav ANJALI YADAV 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  10. raquimali raquimali 25/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
  11. Kajalsoni 27/04/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/04/2017
  12. bhupendradave 23/05/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/05/2017

Leave a Reply