सपनों का बोझ – प्रियंका ‘अलका’

हम दोनों जानते हैं
एक होने के बाद भी
हम दोनों के सपने अलग हैं…….

कहते हैं –
खाना धीमी आँच पर पकाने से
खाना अच्छा पकता है ।

मैं तुम्हारे सपनों को समझती हूँ
पर तुमने मेरे
सपने के अस्तित्व को
झूठला दिया है……

तुम अपने सपनों को
मेरी आँखों से देखने की
हड़बड़ी में रहते हो,
मैं तुम्हारे सपनों से
पीछा छुड़ाने की
जल्दी में रहती हूँ……
अब मुझे यह कहने की
जरूरत नहीं
हमारे रिश्ते की जल्दबाजी
हमारे रिश्ते को
कैसा पका रही है………….

-अलका

19 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  3. C.M. Sharma babucm 21/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  4. mani mani 21/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  7. Kajalsoni 22/03/2017
    • ALKA ALKA 22/03/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/03/2017
  9. ALKA ALKA 23/03/2017
  10. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 21/08/2017

Leave a Reply