सबकी अपनी कहानी यहाँ – अनु महेश्वरी

सबकी अपनी कहानी यहाँ,
सबकी अपनी परेशानी है।
किसी की आँखों में दर्द यहाँ,
किसी के आँखों में पानी है।

सबकी अपनी किस्मत यहाँ,
सबकी अपनी तक़दीर है।
कोई करता संघर्ष यहाँ,
किसी को मिलती विरासत है।

सबकी अपनी सोच यहाँ,
सबकी अपनी समझ है।
कोई है दरियादिल यहाँ,
कोई बहुत कंजुस है ।

सबकी अपनी जीने की शैली यहाँ,
सबका अपना एक अन्दाज़ है।
कोई मुस्कुराके जीता यहाँ,
कोई बस रहता उदास है।

सबकी अपनी सीमाएं यहाँ,
सबका अपना दायरा है।
कोई बहुत शौकीन यहाँ,
कोई परंपरा को निभाता है।

सबकी अपनी पहचान यहाँ,
सबकी अपनी सरुपता है।
कोई बहुत व्यवहारिक यहाँ,
कोई थोड़ा अंतरमुखी है।

किसी से भी क्यों उम्मीद करें यहाँ,
दूसरे की ज़िन्दगी को समझने की।
सबकी अपनी कहानी यहाँ,
सबकी अपनी परेशानी है।

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/03/2017
  1. Rakesh Pandey 19/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/03/2017
  3. mani mani 19/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/03/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/03/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/03/2017
  6. Kajalsoni 20/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/03/2017
  7. C.M. Sharma babucm 20/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/03/2017

Leave a Reply