सदगुण – शिशिर मधुकर

अधिक पाने की इच्छाओं को पूरा त्यागना होगा
वरना चिंता रहेगी मन में और नित भागना होगा

बिन प्रेम के जीवन में सब इच्छाएं तनाव ही देंगी
चेहरों का नूर सुख शांति मिल कर सब हर लेंगी

कर्म जो संभव हैं करो वांछित फल की ना हो आस
अर्जुन सी शक्ति आएगी तब चलकर तुम्हारे पास

संसार जब नश्वर है यहाँ सम्पत्ति का नहीं है मोल
सदगुण ही इस दुनिया में रहते हैं हरदम अनमोल

शिशिर मधुकर

14 Comments

    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017
  1. C.M. Sharma babucm 18/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 18/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017
  3. sumit jain sumit jain 18/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017
  5. mani mani 18/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 18/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2017

Leave a Reply