KENDRIYA VIDYALAYA

वो विद्यालय ही क्या जो केन्द्रीय न हो,
जहा सभी बच्चों की सक्रिय इंद्रिया न हो ।
वैसे तो पढ़ा जा सकता है किसी भी स्थान पर,
खैर वो पाठशाला ही क्या जो बनी न हो कब्रिस्तान पर  ।।

द्वारा – मोहित सिंह चाहर ‘हित’

2 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 17/03/2017
  2. sumit jain sumit jain 18/03/2017

Leave a Reply