मेरे गाँव की सड़क

कहीं टूटती सी,
कहीं फूटती सी,
मेरे गाँव के बीच से
गुज़रती ये टूटी-फूटी सड़क..
जानती है दास्ताँ,
हर कच्चे-अधपक्के मकान की,
हर खेत,हर खलिहान की…

ये सड़क जानती है,
कब कल्लू की गय्या ब्याई थी,
और कब रज्जन की बहू घर आई थी,
ये सड़क जानती है,
कब बग़ल के चाचा ने दम तोड़ा थी,
कब चौरसिया ने लुगाई को छोड़ा थी..

मेरे गाँव की सड़क ये जानती है,
तिवरिया के आम के बाग़ से
रेंगती हुई इक पगड़डी
सीधे निकलती है उस चौराहे पे,
जहाँ चार बरस पहले,
औंधे मुँह गिरा था श्यामलाल
फिसलकर अपनी फटफटीया से..
ये सड़क जानती है,
इसी चौराहे पर पहली बार मिले थे नैन
भोलू नउआ के रमकलिया से…

मेरे गाँव की सड़क ये भी जानती है,
गए साल पानी नहीं बरसा था..
बूँद-बूँद को हर खेत तरसा था..
मेरे गाँव की सड़क जानती है,
इस साल किसानों की फिर उम्मीद बँधी है,
गाँव की हर आँख आसमान पर लगी है..

मेरे गाँव के बीच से,
गुज़रती ये टूटी-फूटी सड़क,
जानती है दास्ताँ,
हर कच्चे-अधपक्के मकान की,
हर खेत, हर खलिहान की…

5 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/03/2017
  3. babucm babucm 17/03/2017
  4. sumit jain sumit jain 18/03/2017

Leave a Reply