सीमा पे खड़ा है तु — मधु तिवारी

सीमा पे खड़ा है तु सिपाही सीना तानकर
सामना हो अगले पल ही मौत को भी जानकर

वतन है तेरे साथ मे अमन है तेरे हाथ मे
कर दिया निसार खुद को अपना फर्ज मानकर

तेरी जिन्दगी तो हम सभी से है ऊपर यहाँ
पा लिया मुकाम अपनी जिन्दगी को दानकर

सच्ची सेवा तेरी है पहरा देश का करे
फौरी ही डटे वहाँ कहीं भी खटका जानकर

गर्व से ऊँचा किया भाल भारती का तु
निभा रहा कसम को जो गया था तुने ठानकर

जीना तेरा शान का मौत भी है शान की
ध्वज कफन को ओढ़ के विदा हो देश गानकर

चूम ले मधु तु भी धरा की मिट्टी को अभी
देश के लिए तु भी तो ऐसा कोई कामकर

मधु तिवारी

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 17/03/2017
      • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/03/2017
        • Madhu tiwari Madhu tiwari 17/03/2017
  2. babucm babucm 17/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 17/03/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/03/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 17/03/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/03/2017
  6. sumit jain sumit jain 18/03/2017
  7. Kajalsoni 19/03/2017
  8. mani mani 19/03/2017

Leave a Reply