दिल ए आदम को वहशत है ज़मीं से

दिल ए आदम को वहशत है ज़मीं से |
हवा आई कोई ख़ुल्द ए बरीं से |

जो निकली थी दिल ए अन्दोहगीं से |
जली बिजली उस आह ए आतिशीं से |

हुई तैयारियाँ दार ओ रसन की
अनालहक़ की सदा आई कहीं से |

जहां से क़हक़हे उठे थे शायद
मेरे आँसू भी आए हैं वहीँ से |

चली दुनिया में रस्म ए सजदारेज़ी
कुछ उनके दर से कुछ मेरी जबीं से |

यकीं के पाँव में लग़ज़ीश न आए
बदल जाती हैं तक़दीरें यकीं से |

मुहब्बत की ” ज़िया ” सरशारियाँ हैं
नहीं मुझ को ग़रज़ दुनिया ओ दीं से |

Leave a Reply