सेहरा — शेरो शायरी — डी के निवातिया

लो सज गए वो फिर से पहनकर सेहरा भी,
अरे कोई तो जाकर उन्हें हमारी याद दिलाये !
हम ख़ाक में मिल गए उनके एक इशारे पर
और वो है के कब्र पे हमारी फिर सेज सजाये !!
!
!
!
डी के निवातिया

14 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 16/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/03/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/03/2017
  4. babucm babucm 17/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/03/2017
  5. Kajalsoni 19/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/03/2017
  6. mani mani 19/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/03/2017

Leave a Reply