असर इतना किया कि बेअसर हो गया,
काम कुछ ना बना सब कसर भी गया,
हक जताना मुनासिब तुझपे होता भी क्यूँ,
तू तो काफिर थी मेरा धर्म भी गया |

One Response

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017

Leave a Reply