इन्तज़ार ए सुबह ए नो है शाम से

इन्तज़ार ए सुबह ए नो है शाम से
रात कट जाए कहीं आराम से

जल उठे दिल में उम्मीदों के चिराग़
दी मुझे आवाज़ किसने बाम से

कारोबार ए ज़िन्दगी चलता रहा
इक मुसलसिल कोशिश ए नाकाम से

और कितनी दूर है मंज़िल अभी
पूछता हूँ लग़ज़िश ए हर गाम से

कूबकू सहरा ब सहरा दर ब दर
हम रहे आवारा ओ बदनाम से

इशरत ए आग़ाज़ का अन्दाज़ा कर
ऐ दिल ए मुज़तर ग़म ए अन्जाम से

तोड़ ही दी हमने तोबा ऐ ज़िया
तंग आकर गरदिश ए अय्याम से

Leave a Reply