इक क़यामत मेरी हयात बनी

इक क़यामत मेरी हयात बनी |
गरमी ए बज़्म ए कायनात बनी |

आशना ए सुकूँ थी ला इलमी
आगही फ़िक्र ए शशजहात बनी |

मौत ने जब फ़ना की दी तालीम
वो घडी मुश्दा ए हयात बनी |

मौसम ए बरशिगाल ख़ूब आया
इक दुल्हन सारी कायनात बनी |

दामन ए ज़ब्त में सुकूँ पाया
शोर ओ शेवन से जब न बात बनी |

फिर वही रात सुबह बनती है
जो सहर शाम हो के रात बनी |

जब्र का सब तिलिस्म टूट गया
जब ईरादों की कायनात बनी |

किस ज़मीं में ग़ज़ल कही है ” ज़िया ”
कि बनाए से भी न बात बनी | ‎

Leave a Reply