अश्क़ पलकों पे फिर सजाऊं क्या

अश्क़ पलकों पे फिर सजाऊं क्या ?
फिर मुहब्बत के गीत गाऊं क्या  ?

दिल ही जब बुझ गया तो ऐ शब ए ग़म
आँधियों में दिये जलाऊं क्या ?

आफ़तें हैं तो ज़िन्दगी भी है
आफ़तों से निजात पाऊं क्या ?

राज़दार ए अलम, शरीक ए ग़म
दर ओ दीवार को बनाऊं क्या ?

तीरह ओ तार है मेरी दुनिया
मेहर ओ माह का फ़रेब खाऊं क्या ?

लाख परदे , हज़ार चहरे हैं
ऐ ” ज़िया ” अब नज़र हटाऊं क्या ?

Leave a Reply