मुक्तक – (डॉ. विवेक कुमार)

जीत की न हार की
बात केवल प्यार की,
आप साथ हो अगर
क्या पड़ी बहार की।

आप मुस्कुरा दिए
ज्यों झड़ी फुहार की,
देह आपकी की कनक
चोट ज्यों सुनार की।

तेली पाड़ा मार्ग, दुमका-814 101
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित।

27 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/03/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/03/2017
  3. Kajalsoni 11/03/2017
  4. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 11/03/2017
  5. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 11/03/2017
  6. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 11/03/2017
  7. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 11/03/2017
  8. poonamshree 11/03/2017
  9. poonamshree 11/03/2017
  10. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 11/03/2017
  11. babucm babucm 11/03/2017
  12. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 11/03/2017
    • कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 12/03/2017
  13. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 11/03/2017
  14. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 12/03/2017
  15. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/03/2017
  16. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 12/03/2017
  17. Awadhesh 12/03/2017
  18. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 12/03/2017
  19. Dr.Anand Dr.Anand 15/03/2017
    • डॉ. विवेक डॉ. विवेक 21/03/2017
  20. Dr.Anand 15/03/2017
  21. vikram 18/03/2017
  22. vikram 18/03/2017
    • डॉ. विवेक डॉ. विवेक 21/03/2017
  23. Dushyant 20/03/2017
    • डॉ. विवेक डॉ. विवेक 21/03/2017

Leave a Reply