मोहे प्रीत के रंग रंगना — डी. के. निवातिया

रंग से नही रंगना,
सजन मोहे अपने रंग में रंगना !
कच्चे रंग दिखावे के,
मोहे प्रीत के पक्के रंग रंगना !!
!
बारह महीनो चढ़ा रहे,
मोहे फाग के रंग में रंगना !
सावन भादो हरा रहे
मोहे ऐसे रंग में तुम रंगना !!
!
ज्यो – ज्यो चढ़े,
बैसाख – ज्येष्ठ की दुपहरी !
तपती धरती में,
हो जाये मेरा रंग भी पक्का !!
!
पूस – माघ की सर्दी में,
जम जम जाये, रंग हो ठंडा !
हर मास असर दिखाये,
सजन मोहे ऐसे रंग में रंगना !!
!  
रंग से नही रंगना,
सजन मोहे अपने रंग में रंगना !
कच्चे रंग दिखावे के,
मोहे प्रीत के पक्के रंग रंगना !!
!
!
!
डी. के. निवातिया

************************

22 Comments

  1. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  2. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  6. Kajalsoni 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  7. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  8. C.M. Sharma babucm 11/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  9. Shyam Shyam tiwari 12/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017
  10. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 13/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/03/2017

Leave a Reply