रोशनी की तलाश

रोशनी की अगर
तुम्हे तलाश है
तो बाहर मत देखो
बाहर तो सिर्फ़ अंधेरा
और सिर्फ़ अंधेरा है
ढूँढते रह जाओगे
और अंधेरो मे गहरे
कहीं खो जाओगे
तुम्हारे चारों तरफ़
फैला अंधकार
तुम्हे डरा देगा
रोशनी चाहिए तो
अपने अंदर झाँको
और चमक उत्पन्न करो
वैसे ही जैसे
अनंत अंधेरे आकाश मे
नन्हा तारा सिर्फ़
अपनी रोशनी के
दम पर निडर
हो चमकता है

7 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 09/03/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 09/03/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 09/03/2017
  5. Kajalsoni 09/03/2017
  6. babucm babucm 09/03/2017

Leave a Reply