नारी शक्ति कहलाई हूं— मधु तिवारी

हे नीली छतरी वाले ! धन्य हो
जिसने मुझमें वो बात दी है
गुणी जनों मे जगह बनाऊं
मुझको ऐसी औकात दी है

दुनिया रंग बिरंगी देखूं
ऐसे दो सुन्दर नैन दिये
करुं कर्म निभाऊ धर्म
तो समय दिन रैन दिये

नापूं जग को थाम लूं
कर्म रत हस्त-पद दिया
बह न जाऊं अपनी रव मे
विवेक रुपी ये हद दिया

ग्यान से जग को राह दिखाऊं
ऐसी माथे मे चेतना दी
समझ सकूं पर पीड़ा को
मन मे ये संवेदना दी

बोलूं सत्य वचन मैं गुण गाऊं
मैं रसना ऐसा पाई हूं
मुझ ऐसे कृपा किया कि
नारी शक्ति कहलाई हूं

मधु तिवारी

20 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 08/03/2017
      • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
        • Madhu tiwari Madhu tiwari 08/03/2017
  2. Kajalsoni 08/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 08/03/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  4. Lucky 08/03/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 08/03/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 08/03/2017
  7. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 08/03/2017
  8. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 08/03/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 08/03/2017
  9. babucm babucm 08/03/2017
  10. Madhu tiwari Madhu tiwari 09/03/2017

Leave a Reply