फितरत बदल ना पाएगी – शिशिर मधुकर

अगर तू याद करना छोड़ दे मुझको खबर मिल जाएगी
अपने मिलन की आस के फिर ना गीत धड़कन गाएगी

आँखों से दूर कर दिया पर दिल से तो ना रुखसत किया
साँसें हैं जब तक मेरे तन में तेरी चाहत मुझे तड़पाएगी

बिखरे चमन का भय भी ना हमको अलहदा कर सका
शायद ये दुनिया अब तो अपनी चालों से बाज़ आएगी

पैदा हुए और बस मर गए ऐसी जिन्दगी का क्या मज़ा
कुछ ऐसा करें जो नस्लें हमारे अफ़सानों को गुनगुनाएँगी

मिलते हैं लोग हर तरह के इस जिन्दगानी में मधुकर
मुहब्बत में जीने वालों की कभी फितरत बदल ना पाएगी

शिशिर मधुकर

20 Comments

    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/03/2017
  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 07/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/03/2017
  2. Kajalsoni 07/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 07/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 08/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  6. mani mani 08/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  7. babucm babucm 08/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  8. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 08/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/03/2017
  9. Rajeev Gupta 09/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/03/2017

Leave a Reply