प्यार……… कृष्ण सैनी

ना हो शब्दो से बयाँ ये
ना ही कोई परिभाषा
हर किसी के मन मे है
दिलेस्पर्श की अभिलाषा
काम है इसका
दो रूहो को जोड़ना
आसाँ नही इसे
इक बार मिलाके तोडना
प्यार,इक भाव है
कडी धूप मे छाव है
प्यार,इक तपस्या है
जिसमे सारी खुशिया है
प्यार,इक समर्पण है
जिसमे सब कुछ अर्पण है
ना जाती धर्म का रंग है
केवल प्रिया का संग है
प्यार,भरोसा और लगाव है
अलगाव मे बडा घाव है
ना हो शब्दो से बयाँ ये
ना ही कोई परिभाषा
हर किसी के मन मे है
दिलेस्पर्श की अभिलाषा
.
.
.
.
कृष्ण सैनी

21 Comments

    • कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 07/03/2017
  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/03/2017
    • कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 07/03/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 07/03/2017
  3. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 07/03/2017
  4. Kajalsoni 07/03/2017
  5. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 07/03/2017
  6. Kajalsoni 07/03/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/03/2017
    • कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 07/03/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 07/03/2017
  9. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 07/03/2017
  10. babucm babucm 07/03/2017
  11. कृष्ण सैनी krishan saini 08/03/2017
  12. Goutam katariya 08/03/2017
  13. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 08/03/2017
  14. Goutam katariya 08/03/2017
  15. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 08/03/2017
  16. Goutam katariya 09/03/2017
  17. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 09/03/2017

Leave a Reply