हम धरती के टूटे तारे

हम धरती के टूटे तारे,
अम्बर अवनी से टूटे तो
क्षितिज भला-क्यों कर स्वीकारे!
   
घर-परिवार, न रिश्ते नाते
सब हैं , सूरत से कतराते
घर में ही जब , बेघर से हैं
क्यों न भला, दुनिया दुत्कारे!

हम में क्या कुछ ,उर्जा कम है?
बाहों में पूरा दमखम है
फिर क्यों? कृत्रिम उपग्रह के
आगे फिरते हैं ,मारे -मारे!

दे दो धरा का , कोई कोना
मिट्टी को हम , कर दें सोना
सूरज केा , गलबहियाँ लेते
होंगे हम अनमोल सितारे!

अब न हाथ पर हाथ धरेंगे
जड़ पर उल्कापात करेंगे
गिरते दम तक राख न होंगे
बरसेंगे ,बनकर अंगारे!

Leave a Reply