नई खुशी की आशा- शिशिर मधुकर

तेरा मुझको मालूम नहीं मैं अपने दिल की कहता हूँ
चोट लगीं जो अपनों से उनकी सब पीड़ाए सहता हूँ

वो ही दुनियाँ है जीवन है और गर्दिश में चन्दा तारे
तुझसे मिलने की राहों को पर मैं तकता ही रहता हूँ

क्या आलम था बूंदों सी बरस तू मेरे भीतर समाई थी
नदियाँ का पानी हूँ बिन तेरे हरदम तन्हा सा बहता हूँ

तेरा साथ मिला तो मुझमें ऊँची चट्टानों सी ताकत थी
प्रेम का रस सूखा तो अब मैं रेती के टीले सा ढहता हूँ

चाहे ग़म कितना भी आए मैं बिल्कुल भी मायूस नहीं
नई खुशी की आशा में मैं बस हरदम जिन्दा रहता हूँ

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 03/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/03/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/03/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 04/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/03/2017
  4. Kajalsoni 04/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/03/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/03/2017
  6. babucm babucm 06/03/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/03/2017

Leave a Reply