समय – अनु महेश्वरी

जब विचलित हो मन
कर न सको किसी पे विश्वास
धीरज धर अपने मन
रखना प्रभु पे विश्वास

वो ही है तारणहार
करते सबकी नैया पार
अपनी हिम्मत रखें बनाए
आत्मविश्वास खोने न पाए

वक़्त वक़्त की बात यहाँ
हर वक़्त समान कहाँ
बदलते रहता वक़्त जहाँ
क्यों रहे हम परेशान वहाँ?

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/02/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/02/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/02/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/02/2017
  3. babucm babucm 28/02/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/02/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 28/02/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/02/2017
  5. Kajalsoni 01/03/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 01/03/2017
  6. vijaykr811 vijaykr811 01/03/2017
  7. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 01/03/2017

Leave a Reply