मन की बाते—डी के निवातिया

आवश्यक सूचना

(यह राजनितिक हालातो के परिपेक्ष्य पर लिखी गयी है इसका किसी व्यक्ति विशेष से कोई सम्बन्ध नहीं है )

(मन की बाते)

कभी जनता को मन की बातों से बहला रहे है ।
कभी दुनिया को धन की बातों में टहला रहे है ।।

क्या कहे शख्सियत वतन वजीर-ए-आला की।
भाई सरीखे को भी रेनकोट में नहला रहे है ।।

कौन नही वाकिफ अंदाज-ऐ -बया से इनके ।
नोटों के मार तमाचें मीठी बातो से सहला रहे है ।।

अगर होते है दलदल-ऐ-हमाम में सभी नंगे ।
फिर खुद को कैसे पाक साफ बतला रहे है।।

देखना है हाल-ऐ-हिन्द तो गाँवों में जाकर देखो।
क्यों शहरी आबोहवा आमजन को दिखला रहे है ।

वतन तो आज भी कैद है चंद लोगो की मुट्ठी में।
बना के खिलौना इस हाथ से उस हाथ झुला रहे है।

राजनीति के हालात आज तुमने कैसे बना डाले ।
काम से ज्यादा जनता को वादों में टहला रहे है ।।

सजता है कभी ताज इनके सर कभी उनके सर ।
आमजन को आज भी खून के आंसू रुला रहे है।।

कोई करे इत्तेफाक या न करे जमीनी हकीकत से
समझ के कर्म “धर्म” आज सच को दिखला रहे है।।



डी के निवातिया

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 01/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  3. आलोक पान्डेय आलोक पान्डेय 01/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  4. babucm babucm 01/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  5. Kajalsoni 02/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 04/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 04/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017
  8. Lucky 08/03/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/03/2017

Leave a Reply