तुम बिन जिंदगी है तन्हा…. काजल सोनी

तुम बिन जिंदगी है तन्हा
जो तु मुझे हासिल नहीं…..
कह रहा ये वक्त भी अब तो
मै तेरे काबिल नहीं ।

तुम बिन जिंदगी ……..

जोड़ रही हूँ गम से नाता
लेकर तेरी ख्वाहिशें ।
सरहदें भी कह रही है
तू मुझमें शामिल नहीं ।

तुम बिन जिंदगी……..

सांसे भी रुक रही
लेकर अब तो नाम तेरा ।
टुट कर न समहल सकु मैं
और समहलता ये दिल नहीं ।

तुम बिन जिंदगी है तन्हा……..

…….. काजल सोनी……

12 Comments

  1. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 22/02/2017
    • Kajalsoni 23/02/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/02/2017
    • Kajalsoni 23/02/2017
  3. C.M. Sharma babucm 23/02/2017
    • Kajalsoni 23/02/2017
  4. mani mani 23/02/2017
    • Kajalsoni 23/02/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/02/2017
    • Kajalsoni 23/02/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/02/2017
    • Kajalsoni 24/02/2017

Leave a Reply