सुन्दर भाव हो–मधु तिवारी

हे मन ! ऐसा कोई गीत लिख जिसमें सुन्दर भाव हो
हर किसी को सीख मिले सबको ऐसा ही चाव हो

जीवन मे लोग सभी पाले इमानदारी को
देश औऱ समाज हित की ले जिम्मेदारी को
करें विकास का काम सभी शहर हो या गांव हो
हे मन ऐसा कोई गीत लिख जिसमें सुन्दर भाव हो

ग्यान विग्यान की उन्नति मे बढ़ जाए हम आगे
पीछे छोड़ सारे जग को सबसे पहले हम भागे
मूड़ के न देखे पीछे को नदी की तरह बहाव हो
हे मन ऐसा कोई गीत लिख जिसमें सुन्दर भाव हो

स्रम कर खाये एक एक जन न रहे कोई बैठे
अपना औऱ पराया सोच के कोई भी न ऐठे
मिलकर संग चले सभी ऐसा सबका सुभाव हो
हे मन ऐसा कोई गीत लिख जिसमें सुन्दर भाव हो

जात धरम पर लड़े न कोई हो आदर यहाँ सबका
अमन चैन हो देश मे अपना छुटे न कोई तबका
भला ही सोचें हर इन्सान इसी मे सबका झुकाव हो
हे मन ऐसा कोई गीत लिख जिसमें सुन्दर भाव होहो

मधु तिवारी

14 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/02/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/02/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 20/02/2017
  3. babucm babucm 20/02/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/02/2017
  5. Kajalsoni 22/02/2017
  6. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 23/02/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 23/02/2017
  7. mani mani 23/02/2017

Leave a Reply