सफलता बड़ी या अपने – मनुराज वार्ष्णेय

सफलता ऐसी हो जिसका दूर दूर तक नूर हो जाये
कर्म ऐसे करो जो दूर दूर तक मशहूर हो जाये
आगे बढ़ते बढ़ते बस इतनी बात का ध्यान रखना
कहीं सफलता के चक्कर में अपने ही दूर न हो जाये

5 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/02/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/02/2017
  3. babucm babucm 20/02/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/02/2017
  5. Kajalsoni 22/02/2017

Leave a Reply