तमाशे–शेर -डी के निवातिया

न पूछो बेबसी, बेताबी का आलम
यंहा कोई गुमशुम,  तो कोई हैरान नजर आता है !
ये जिंदगी भी कितने तमाशे दिखाये  
इसकी महफ़िल में हर कोई परेशान नजर आता है !!

!

!

—::डी के निवातिया::—

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 14/02/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/02/2017
  2. mani mani 14/02/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/02/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/02/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/02/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 14/02/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/02/2017
  5. C.M. Sharma babucm 15/02/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/02/2017
  6. Kajalsoni 22/02/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/02/2017

Leave a Reply